हरियाणा में शैक्षणिक प्रमाण पत्रों की जांच से बढ़ी नए पंच-सरपंचों की धड़कनें, अब देनी होगी एक और परीक्षा

हरियाणा में शैक्षणिक प्रमाण पत्रों की जांच से बढ़ी नए पंच-सरपंचों की धड़कनें, अब देनी होगी एक और परीक्षा

बहादुरगढ़/हिसार : मतगणना की तिथि नजदीक आने से एक ओर जहां पंचायत समिति व जिला परिषद चुनाव के प्रत्याशियों की धड़कने तेज होती जा रही है, वहीं दूसरी ओर निर्वाचित पंच सरपंच बेचैन भी। चुनाव आयोग द्वारा सभी निर्वाचित पंच सरपंचों के शैक्षिक प्रमाण पत्रों की जांच के आदेश के बाद अब इन प्रतिनिधियों को एक और परीक्षा से गुजरना होगा

पहले चुनाव जीतना उनके लिए एक परीक्षा थी और अब प्रमाण पत्रों के सत्यापन में यह देखना होगा कि कहीं किसी पंच सरपंच का शैक्षणिक प्रमाण पत्र फर्जी तो नहीं है. चुनाव से पहले ही बहादुरगढ़ प्रखंड में सरपंच पद के आठ प्रत्याशियों के शैक्षणिक प्रमाण पत्र निरस्त होने के कारण उनके नामांकन रद्द कर दिये गये थे, लेकिन अब जांच होगी तो प्रमाण पत्रों की सत्यता का गहराई से पता चल पायेगा

बहादुरगढ़ में भी एक मामला हाईकोर्ट में विचाराधीन है। पिछली योजना में असौदा सीवान गांव के एक प्रत्याशी जो कि सरपंच था, का नामांकन निर्वाचन अधिकारी द्वारा शैक्षणिक प्रमाण पत्र के आधार पर निरस्त कर दिया गया था, लेकिन जब अभ्यर्थी ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया तो हाईकोर्ट ने उसका नामांकन स्वीकार करने का आदेश दिया. ऐसे में यहां अभी चुनाव बाकी है। बहादुरगढ़ में 363 पंच निर्विरोध चुने गए

दो गांवों में सरपंच भी निर्विरोध हो गए। अब जांच होगी तो पता चलेगा कि जो पंच सरपंच निर्वाचित हुए हैं उनका प्रमाण पत्र फर्जी है या नहीं। उधर, पंचायत समिति व जिला परिषद चुनाव की मतगणना की तैयारी तेज कर दी गई है। मतगणना अगले रविवार यानी 27 नवंबर को होगी

बहादुरगढ़ में पहले चरण में पंचायत चुनाव के लिए वोटिंग हुई. जिला परिषद व पंचायत समिति के लिए 30 अक्टूबर को मतदान हुआ था। दोनों चुनावों के बाद ईवीएम को कड़ी सुरक्षा के बीच रखा गया है। इस बार नतीजे जल्द आएंगे, क्योंकि जिला परिषद के अलावा पंचायत समिति का चुनाव भी इस बार ईवीएम से कराया गया है. जबकि पिछली बार पंचायत समिति का चुनाव बैलेट से हुआ था

ईवीएम से नतीजे आने में देर नहीं लगेगी। इस ब्लॉक में बहादुरगढ़ में 30 पंचायत समिति और पांच जिला परिषद वार्ड हैं। मतगणना के लिए सभी प्रत्याशियों द्वारा एजेंट भी बनाए जा रहे हैं। वहीं मतगणना के लिए प्रशासन द्वारा कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई जा रही है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *