1 दिसंबर को लॉन्च होगा डिजिटल रुपया, जानिए कैसे कर सकते हैं इस्तेमाल

डिजिटल रुपया लॉन्च: सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (सीबीडीसी) आरबीआई द्वारा उसी मूल्यवर्ग में जारी की जाएगी जिसमें कागजी मुद्रा और सिक्के जारी किए जाते हैं

1 दिसंबर को लॉन्च होगा डिजिटल रुपया, जानिए कैसे कर सकते हैं इस्तेमाल

नई दिल्ली: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) 1 दिसंबर को डिजिटल रुपी लॉन्च करने जा रहा है। इसे पायलट टेस्टिंग के तहत रिटेल इस्तेमाल के लिए जारी किया जाएगा। मंगलवार को जारी एक बयान में, केंद्रीय बैंक ने डिजिटल मुद्रा के खुदरा उपयोग के लिए एक पायलट परीक्षण की घोषणा की है। इस पायलट परीक्षण में आठ सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के बैंक शामिल होंगे। खुदरा डिजिटल रुपया एक डिजिटल टोकन के रूप में होगा। आरबीआई ने कहा कि एक दिसंबर को क्लोज्ड यूजर ग्रुप (सीयूजी) में चुनिंदा जगहों पर यह परीक्षण किया जाएगा। इसमें ग्राहक और बैंक व्यापारी दोनों शामिल होंगे।

इनमें से सबसे पहले डिजिटल रुपी का परीक्षण होगा

पहले चरण का परीक्षण चार बैंकों – स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, आईसीआईसीआई बैंक, यस बैंक और आईडीएफसी फर्स्ट बैंक – द्वारा देश भर के चार शहरों में शुरू किया जाएगा, इसके बाद चार और बैंक – बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, एचडीएफसी इस परीक्षा में बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक भी शामिल होंगे।

इनमें से सबसे पहले डिजिटल रुपी का परीक्षण किया जाएगा

परीक्षण का पहला चरण चार बैंकों – स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, आईसीआईसीआई बैंक, यस बैंक और आईडीएफसी फर्स्ट बैंक – द्वारा देश भर के चार शहरों में शुरू किया जाएगा, इसके बाद चार और बैंक – बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, एचडीएफसी इस परीक्षा में बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक भी शामिल होंगे।

इससे पहले केंद्रीय बैंक डिजिटल रुपये के होलसेल सेगमेंट का पायलट परीक्षण कर चुका है। डिजिटल रुपये के थोक खंड का पहला प्रायोगिक परीक्षण 1 नवंबर को हुआ।

सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) RBI द्वारा उसी मूल्यवर्ग में जारी की जाएगी जिसमें कागजी मुद्रा और सिक्के जारी किए जाते हैं। यह टेस्ट दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु और भुवनेश्वर में किया जाएगा।

तो आइए सबसे पहले आपको बताते हैं कि आप रिटेल डिजिटल रुपये का इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं।

खुदरा डिजिटल रुपये का उपयोग मोबाइल फोन और अन्य उपकरणों पर डिजिटल वॉलेट के जरिए लेनदेन के लिए किया जा सकता है। डिजिटल करेंसी में लेनदेन पर्सन-टू-पर्सन (P2P) और पर्सन-टू-मर्चेंट (P2M) के बीच किया जा सकता है। खुदरा डिजिटल मुद्रा बैंकों के माध्यम से वितरित की जाएगी। आरबीआई के डिजिटल रुपया कार्यक्रम में भाग लेने वाले बैंकों द्वारा पेश किए गए डिजिटल वॉलेट केवल डिजिटल मुद्रा में लेनदेन कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *