Haryana jhajjar में रिश्वत लेती महिला ASI रंगे हाथों गिरफ्तार

Haryana jhajjar में रिश्वत लेती महिला ASI रंगे हाथों गिरफ्तार

 

Haryana jhajjar सेंटर संचालक के Hisar की एक युवती के साथ सहमति संबंध थे। युवती की शिकायत पर एएसआई ने 50 हजार मांगे थे। 30 हजार रुपये पहले दिए जा चुके थे।

Haryana के Jhajjar में महिला थाने में तैनात एक महिला एएसआई को सोनीपत की विजिलेंस टीम ने दस हजार रुपये रिश्वत लेते रंगे हाथों काबू किया है। कोयलपुर गांव निवासी सीएससी सेंटर संचालक के हिसार की युवती के साथ सहमति संबंध थे। आरोप है कि युवती की शिकायत पर मामला दर्ज न करने के एवज में उसने 50 हजार रुपये रिश्वत मांगी। पीड़ित ने आरोप लगाया कि वह एएसआई को पहले भी तीस हजार रुपये रिश्वत दे चुका है। विजिलेंस टीम ने आरोपी महिला एसआई को काबू कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।

विजिलेंस की टीम का कहना है कि मध्य रात्रि आरोपी महिला एसआई पूनम की मेडिकल जांच करवाने के बाद उसे ड्यूटी मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया जाएगा। जहां से पीड़ित की तरफ से दिए गए 30 हजार रुपये व लिविन रिलेशनशिप का रिकॉर्ड बरामद करने के लिए पुलिस रिमांड की मांग की जाएगी।

jhajjar Koyatpur गांव निवासी सीएससी सेंटर संचालक राजबीर का कहना है कि फोन पर हिसार जिले की एक युवती के साथ बातचीत होने के बाद उसके सहमति संबंध हो गए थे। जिसके बाद उन्होंने लिविन रिलेशनशिप के कागजात भी तैयार करवाए थे। एक मई को महिला पुलिस थाने से फोन आया था कि युवती ने उसके खिलाफ शिकायत दी है।

जिस पर पुलिस उसके खिलाफ दुष्कर्म आदि का मामला दर्ज करेगी। इस मामले को सुलझाने के लिए 50 हजार रुपये मांगे गए थे। उसके बाद उसने 30 हजार रुपये एएसआई को दे दिए थे। उसके बाद भी वह बाकी रुपये मांगती रही। इसी बीच उसने डीएसपी विजिलेंस सोनीपत को शिकायत कर दी।

इस मामले में कार्रवाई करते हुए शुक्रवार की देर शाम दस हजार रुपये और देने के लिए कहा गया। विजिलेंस टीम ने दस हजार रुपये देकर राजबीर को महिला पुलिस थाने में भेजा। उसने रुपये देने के बाद जब विजिलेंस टीम को इशारा किया तो महिला एएसआई को रंगे हाथ दस हजार रुपये सहित काबू कर लिया। विजिलेंस टीम देर रात तक कार्रवाई में जुटी हुई थी। इस मामले के लिए उपायुक्त की तरफ से मातनहेल के तहसीलदार को ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किया गया था।

कागजी कार्रवाई पूरी होने के बाद महिला एएसआई को ड्यूटी मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया जाएगा। उसके बाद उसे रिकॉर्ड व 30 हजार रुपये बरामदगी के लिए अदालत से रिमांड पर लेने का आग्रह किया जाएगा। – Jaypal singh, डीएसपी विजिलेंस, Sonipat

Leave a Reply

Your email address will not be published.