Haryana jind में बरसाती पानी निकासी की पाइप लाइन बिछाई

Haryana jind में सीवर लाइन से होती थी बरसाती पानी की निकासी, इस सीजन होगी प्रशासन की परीक्षा जागरण संवाददाता, Jind : शहर में पिछले कई दशक से सीवर लाइन से ही बरसाती पानी की निकासी होती थी। सीवर लाइन की क्षमता कम होने के कारण वर्षा होने के बाद निकासी में ज्यादा समय लगता है। नगर परिषद ने अमृत योजना के तहत बरसाती पानी की निकासी के लिए पाइप लाइन दबाई है। नगर परिषद को ये लाइन जन स्वास्थ्य विभाग को सौंपनी है।

jind में पिछले साल बरसाती सीजन में rohtak रोड, bhiwani रोड, सफीदों रोड, अनाज मंडी रोड, स्कीम नंबर पांच व छह क्षेत्र की पाइप लाइन शुरू हो गई थी और ये लाइन के ट्रायल का समय था। इस बार पाइप लाइन दबाई जा चुकी है। रानी तालाब के पास इंटरनल पंपिग स्टेशन (आइपीसी) बनाया जाना बाकी है। वहीं पानी निकासी के लिए जगह-जगह बनाए गए चैंबर की सफाई की जानी है। साथ ही जहां-जहां चैंबर हैं, उनकी दीवार पर मार्किंग भी की जानी , ताकि बरसात के समय लोगों को पता चल सके कि यहां चैंबर हैं, जिससे वे संभल कर चलें। ठेकेदार काम पूरा होने का दावा कर रहा है। लेकिन इस काम में अभी काफी समय लग सकता है। जिससे बरसाती सीजन में दिक्कत आ सकती है। अगर प्रोजेक्ट बरसाती सीजन से पहले पूरा भी हो जाता है, तो प्रशासन की परीक्षा होगी कि ये लाइन बरसाती पानी की निकासी को लेकर कितना खरा उतरती है।नगर परिषद की तरफ से दावा किया जाता है कि इस प्रोजेक्ट के पूरा होने के बाद शहर में जलभराव की समस्या नहीं रहेगी। ये दावे कितने सही साबित होते हैं, ये इस बरसाती सीजन में पता चलेगा। प्रोजेक्ट पूरा होने में साढ़े तीन साल से ज्यादा समय लगा

jind में साल 2018 में नगर परिषद ठेकेदार ने बरसाती पानी निकासी के लिए पाइप लाइन दबाने का काम शुरू किया था। ये प्रोजेक्ट 2020 तक पूरा हो जाना चाहिए था। लेकिन पहले दूसरे विभागों से एनओसी नहीं मिलने की वजह से काम रुक गया। उसके बाद लाकडाउन और प्रदूषण की वजह से काम प्रभावित हुआ। इसके कारण प्रोजेक्ट को पूरा होने में साढ़े तीन साल से ज्यादा का समय लगा। करीब 35 करोड़ रुपये इस प्रोजेक्ट पर लगे हैं। नई अनाज मंडी में पंपिग स्टेशन बनाया गया है। जहां मुख्य लाइन से बरसाती पानी पहुंचेगा और आगे पंपिग करके किनाना कालवा ड्रेन में पानी पहुंचाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.