haryana :politic news hindi

कांग्रेस के पूर्व विधायक करण दलाल ने कहा है कि हरियाणा की अपनी अलग राजधानी होनी चाहिए क्योंकि सिर्फ प्रस्ताव पारित करना व्यर्थ होगा। राज्य विधानसभा की मंगलवार को बैठक हो रही है, जहां चंडीगढ़ पर एक प्रस्ताव पारित होने की संभावना है।

उन्होंने सोमवार को प्रेस कांफ्रेंस करते हुए कहा, ‘चंडीगढ़ नौकरशाहों और राजनेताओं का शहर है। यहां हरियाणा की स्थिति किराएदार की है।

उन्होंने कहा, ‘हम चंडीगढ़ के दावे को छोड़ सकते हैं। बदले में, हम चंडीगढ़ के 11,000 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में हमारे 40 प्रतिशत हिस्से की कलेक्टर दर के बराबर धन प्राप्त कर सकते हैं और एक नया शहर स्थापित कर सकते हैं। “यह रोजगार पैदा कर सकता है। हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड की दो राजधानियां हैं, लेकिन हमारे पास एक भी नहीं है।

दलाल ने आगे कहा कि न तो हरियाणा चंडीगढ़ हवाई अड्डे पर दावा कर सकता है और न ही हमें अपनी राजधानी में नए विधानसभा भवन के लिए जमीन मिल रही है।

हरियाणा में कांग्रेश के पुव विदायक बोल रहे है की हरयाणा की राजदानी चंदिघर नही होनी चाहिए हरयाणा की राजदानी अलग होनी चाहिए उन्होंने कोंफ्रेंक मीटिंग में बताया की हरयाणा की राजधानी अलग होनी चाहिए इसकी राजदानी की पहचान अलग हो वो चंदिग्र के नियमो का पालन करने से भी एंकर कर रहे है बोल रहे है की हरयाणा राज्य की राजदानी चंदिघर नही हीनी चाहिए उन्होंने बोला की वे नये राज्य की स्थापना कर सकते है और भुत ज्यादा बदलाव ला सकते है वे बेरोजगारी को भी दूर कर देंगे और भुत ज्यादा युवाओ को नोक्रिया दे सकती है बेरोजगारों को काम मिल सकता है हरयाणा में जितने भी बेरोजगार उवा है हम सब उनको नोक्रिया देंगे और हरयाणा की बेरोजगारी को जद से ख़त्म करेंगे बस एक बार उनको सता में ले लिए जाये उसके बाद आराम नही विकाश किया जायेगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *