हिसार: दुष्यंत चौटाला ने कहा- दोनों राष्ट्रीय राजमार्गों पर संपर्क जंक्शन बनाने के लिए जल्द प्रस्ताव बनाएं

हिसार: दुष्यंत चौटाला ने कहा- दोनों राष्ट्रीय राजमार्गों पर संपर्क जंक्शन बनाने के लिए जल्द प्रस्ताव बनाएं

हिसार। राष्ट्रीय राजमार्ग 9 दिल्ली रोड को एनएच 52 चंडीगढ़ रोड से जोड़ने के लिए बनने वाली फोर लेन सड़क का काम जल्द शुरू होगा। दोनों एनएच पर कनेक्टिविटी जंक्शन बनाए जाएंगे। इसके लिए राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारी प्रस्ताव तैयार करेंगे। अधिकारी बताएंगे कि इसके लिए उन्हें कितनी जमीन की जरूरत होगी। उनके पास जमीन उपलब्ध है या नहीं। मिर्जापुर रोड से तलवंडी तक बनने वाली फोर लेन सड़क को लेकर गुरुवार को चंडीगढ़ में बैठक हुई। प्रदेश के मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने चंडीगढ़ में अधिकारियों की बैठक ली। इसमें अपर प्रधान सचिव, वित्तीय आयुक्त, पीडब्ल्यूडी, एनएचएआई, राजस्व विभाग के अधिकारी शामिल हुए। डिप्टी सीएम ने कहा कि इस सड़क का जल्द से जल्द निर्माण कराया जाए।एनएचएआई के अधिकारियों ने 8 किलोमीटर लंबी इस सड़क के लिए संपर्क जंक्शन तैयार करने के निर्देश दिए। अधिकारियों से कहा कि इसके लिए जमीन की उपलब्धता की जांच कराएं, अगर जमीन नहीं है तो कोई विकल्प तलाशें।

इसके अलावा डिप्टी सीएम ने ग्राम मुकलान, चौधरीवास, सरसौद में अंडर पास या ओवर ब्रिज तैयार करने के निर्देश दिए. इसमें अधिकारी गांव के लोगों की जरूरत के हिसाब से प्रस्ताव तैयार करेंगे। अंडरपास या ओवरब्रिज बनने से हादसों का खतरा कम होगा।

एयरपोर्ट निर्माण के कारण बरवाला रोड को बंद करने का प्रस्ताव है। इस मार्ग के विकल्प के रूप में फोर लेन सड़क का निर्माण किया जा रहा है। भविष्य में हिसार से बरवाला या बरवाला से हिसार जाने के लिए इसी मार्ग का उपयोग किया जाएगा। नई फोरलेन सड़क की लंबाई 8 किमी होगी। सड़क एनएच 9 पर एमजी क्लब के पास से शुरू होगी और एनएच 52 पर तलवंडी राणा जंक्शन के पास खत्म होगी। इसका सेंट्रल वर्ज 1.52 मीटर होगा। सेंट्रल वर्ज के दोनों ओर सात मीटर चौड़ी सड़क होगी।
सड़क के लिए 110 एकड़ जमीन खरीदी जानी है
नए फोरलेन के लिए हिसार व तलवंडी राणा की 110 एकड़ जमीन खरीदी जानी है। इस जमीन के लिए राज्य सरकार से ई-भूमि पोर्टल के माध्यम से किसानों से आवेदन मांगे गए थे। साथ ही जमीन देने के इच्छुक किसानों से यह भी पूछा गया कि वे अपनी जमीन किस दर पर देना चाहते हैं। इस दौरान करीब 500 से अधिक किसानों ने अपनी जमीन बेचने में रुचि दिखाई। किसानों ने जमीन का रेट 1.12 करोड़ रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से वसूला। नियमानुसार जमीन का रेट कलेक्टर रेट से 20 फीसदी अधिक होने पर मामला हाई पावर लैंड परचेज कमेटी के पास जाता है। हिसार में जमीन की कलेक्टर रेट 50 लाख रुपये और तलवंडी राणा में 60 लाख रुपये प्रति एकड़ है।
सड़क निर्माण के लिए 153.20 करोड़ रुपये की प्रशासनिक स्वीकृति प्राप्त हुई
इस सड़क के निर्माण के लिए राज्य सरकार से 153.20 करोड़ रुपये की प्रशासनिक स्वीकृति प्राप्त हो चुकी है। इसमें से 118.56 करोड़ रुपये जमीन की खरीद, 7 करोड़ रुपये फॉरेस्ट क्लीयरेंस और 27.64 करोड़ रुपये सिविल वर्क पर खर्च किए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *