Delhi,की तर्ज पर प्रदूषण से लड़ेगा Karnal,एक्शन प्लान तैयार

Delhi,की तर्ज पर प्रदूषण से लड़ेगा Karnal,एक्शन प्लान तैयार

करनाल। एनसीआर क्षेत्र में बढ़ते प्रदूषण को लेकर जिला प्रशासन भी सतर्क हो गया है. हालांकि बारिश के बाद एक्यूआई बेहतर स्थिति में है। फिर भी प्रशासन ने दिल्ली की तर्ज पर प्रदूषण से लड़ने की योजना बनाई है। ऐसे में जहां शहर के प्रमुख चौराहों पर हैंगिंग गार्डन को हरियाली बनाया जाएगा. साथ ही ट्रैफिक लाइट में लाल बत्ती लगाने की समय सीमा भी कम की जाएगी ताकि चौकों पर वाहनों का ठहराव न हो।
शहर में प्रदूषण के तीन हॉट स्पॉट बनने के बाद प्रशासन सतर्क हो गया है. उपायुक्त अनीश यादव ने ट्रैफिक पुलिस, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व नगर निगम व एचएसवीपी के अधिकारियों को भी जीआरएपी के तहत जारी निर्देशों का पालन कर कार्रवाई करने को कहा है. हॉट स्पॉट आईटीआई चौक, नमस्ते चौक और रामलीला मैदान में करीब तीन हजार पौधे रोपे जाएंगे। ताकि हरियाली बढ़ाकर यहां की हवा को शुद्ध किया जा सके। क्योंकि इन जगहों पर ध्वनि और वायु प्रदूषण उच्च स्तर पर पाया गया। फिलहाल कई चौराहों पर 85 सेकेंड तक रेड लाइट भी रहती है। इसकी समय सीमा कम की जाएगी।

इसलिए दोनों चौराहों पर प्रदूषण ज्यादा
राष्ट्रीय राजमार्ग-44 पर दिल्ली से आने पर नमस्ते चौक से शहर में प्रवेश होता है। मेरठ का रास्ता भी यहीं से निकलता है। इसके अलावा औद्योगिक क्षेत्र सेक्टर-3 व 4 भी चौक के पास पड़ता है। वहीं आईटीआई चौक पर ट्रैफिक ज्यादा रहता है, क्योंकि अंबाला से आने वाले ज्यादातर वाहन बाल्दी चौक की जगह इसी चौक से शहर में प्रवेश करते हैं. चौक पर सड़क की चौड़ाई कम होने से वाहनों के ब्रेक लग जाते हैं। इससे जाम की स्थिति पैदा हो जाती है।
यह भी योजना के तहत होगा
– अधिकारियों की टीम करेगी डंपिंग साइट का निरीक्षण
– आगजनी का होगा चालान व जुर्माना
नो पार्किंग पर खड़े वाहनों का अधिक चालान किया जाएगा। क्योंकि ये भी बन जाते हैं जाम की वजह
– ट्रैफिक लाइटों की लाल बत्ती की समय सीमा कम की जाएगी, ताकि चौकों पर वाहन ज्यादा देर तक न रुकें
अवैध रूप से संचालित औद्योगिक इकाइयों के खिलाफ होगी कार्रवाई
– डीजल जेनरेटर सेटों से निकलने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए नियमित बिजली आपूर्ति की जाएगी।
सभी विभागों को निर्देश दिया गया है कि वे जीआरएपी के तहत निर्धारित सभी मापदंडों का पालन करें और लापरवाही के खिलाफ कार्रवाई करें. प्रदूषण नियंत्रण के लिए नगर निगम, पुलिस और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की जिम्मेदारी अधिक है। ट्रैफिक लाइट की समय सीमा भी संशोधित की जा रही है।
– अनुभव मेहता, एसडीएम करनाल
पूरे जिले पर पांच टीमों की नजर है। वे रात में भी निरीक्षण करते हैं, ताकि अवैध रूप से चल रहे उद्योगों के खिलाफ कार्रवाई की जा सके. नमस्ते चौक और आईटीआई चौक पर हरियाली का काम चल रहा है। रामलीला मैदान में सफाई के बाद हम यहां भी करेंगे हरियाली.
शैलेंद्र अरोड़ा, क्षेत्रीय अधिकारी, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *