मध्य प्रदेश में शुरू हुई हिंदी में MBBS की पढ़ाई, 16 अक्टूबर को किताबों का लोकार्पण करेंगे अमित शाह

मध्य प्रदेश में शुरू हुई हिंदी में MBBS की पढ़ाई, 16 अक्टूबर को किताबों का लोकार्पण करेंगे अमित शाह

MBBS in Hindi: हिंदी में चिकित्सा शिक्षा का यह प्रयोग देश में पहली बार मध्य प्रदेश में हो रहा है, ऐसे में सरकार भी इसे लेकर काफी उत्साहित है. इसके समर्थन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी अपने ट्विटर प्रोफाइल की फोटो बदल दी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा कि 16 अक्टूबर से मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य बन जाएगा जहां हिंदी में भी चिकित्सा शिक्षा होगी।

 

आमतौर पर अंग्रेजी में एमबीबीएस की पढ़ाई अब हिंदी में भी की जा सकेगी। मध्य प्रदेश देश का पहला राज्य है जो हिंदी में भी चिकित्सा शिक्षा शुरू करने जा रहा है। केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह 16 अक्टूबर को भोपाल के लाल परेड ग्राउंड में एमबीबीएस की हिंदी किताबों का विमोचन करेंगे. इसके साथ ही मध्य प्रदेश देश का पहला राज्य बन जाएगा जहां हिंदी में चिकित्सा शिक्षा शुरू होगी।

हिंदी में सिलेबस तैयार करने के लिए गांधी मेडिकल कॉलेज भोपाल में हिंदी वाररूम “मंदर” तैयार किया गया था। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि यह देश और राज्य के लिए गर्व की बात है कि आजादी के अमृत महोत्सव के दौरान हिंदी माध्यम से शिक्षित छात्रों के लिए चिकित्सा शिक्षा हिंदी में शुरू की जा रही है। ‘हिंदी में मेडिकल की पढ़ाई’ शुरू करने का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का सपना साकार होने जा रहा है

आइए आपको बताते हैं कि देश में पहली बार हिंदी में एमबीबीएस की पढ़ाई करने के लिए मध्यप्रदेश में क्या तैयारी की गई है।
– चिकित्सा पाठ्यक्रम हिंदी में तैयार करने के लिए कार्य योजना तैयार कर एक उच्च स्तरीय समिति (टास्क फोर्स) का गठन किया गया।
पाठ्यक्रम की तैयारी में मेडिकल छात्रों और अनुभवी डॉक्टरों के सुझावों को शामिल किया गया था।
– एमबीबीएस विषयों के लेखक/प्रकाशक को ईडीआई जारी कर शॉर्टलिस्ट किया गया।
पुस्तकों के हिन्दी रूपांतरण का कार्य शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय के संबंधित विषयों के प्राध्यापकों एवं सह प्राध्यापकों द्वारा किया जाता था।
– छात्रों, शिक्षकों और समाज के बीच हिंदी में चिकित्सा शिक्षा / एमबीबीएस पाठ्यक्रम के संबंध में सकारात्मक वातावरण बनाने के लिए कार्यान्वयन और निगरानी के लिए संस्थान स्तर पर एक समिति का गठन किया गया था।

बता दें कि एमबीबीएस प्रथम वर्ष एनाटॉमी, फिजियोलॉजी और बायोकेमिस्ट्री की तीन पुस्तकें तैयार हैं और केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह इन सभी हिंदी पुस्तकों का विमोचन 16 अक्टूबर को दोपहर 12 बजे लाल परेड ग्राउंड में करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *