सिंचाई विभाग के झगड़े में पिस रहे लोग, ग्रामीणों ने किया हंगामा, किसानों का काम हो रहा है प्रभावित

उपाधीक्षक ने जेन पर प्रताड़ित करने और कमरे में ताला लगाने का आरोप लगाया है. विवाद के चलते किसानों को न तो नहर का पानी मिल रहा है और न ही वे अन्य काम कर पा रहे हैं।

सिंचाई विभाग के झगड़े में पिस रहे लोग, ग्रामीणों ने किया हंगामा, किसानों का काम हो रहा है प्रभावित

रोहतक में सिंचाई विभाग के बीच लड़ाई में जनता पिसने को मजबूर है. विभागीय विवाद के चलते किसानों को न तो नहर का पानी मिल रहा है और न ही उनके अन्य कार्य हो रहे हैं. इससे आहत किसानों ने नवीन जयहिंद के साथ बुधवार को सिंचाई विभाग के कार्यालय में ताला लगा दिया. किसानों के काम न करने को लेकर यहां काफी देर तक हंगामा होता रहा।

उपाधीक्षक ने एक्सईएन पर प्रताड़ित करने और कमरे में ताला लगाने का आरोप लगाया है, जबकि एक्सईएन ने उपाधीक्षक पर सुनवाई न करने और काम नहीं करने का आरोप लगाते हुए इस संबंध में एसई व अन्य अधिकारियों से शिकायत करने का दावा किया है. उनका कहना है कि छह दिन पहले लिखे गए पत्र पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

बुधवार को गढ़ी निवासी पूर्व सैनिक प्रदीप सिंचाई विभाग पहुंचे। उनके साथ नवीन जयहिंद और कुछ ग्रामीण भी थे। अपनी समस्या लेकर यहां पहुंचे ग्रामीणों ने कार्यालय पर ताला लगा पाया। उपाधीक्षक बाहर कुर्सी पर बैठे मिले। ग्रामीणों को जब पता चला कि कर्मचारी ताला कार्यालय के बाहर बैठा है तो वे परेशान हो गए। ग्रामीणों ने बताया कि वे कई दिनों से अपने काम के सिलसिले में घूम रहे हैं.

फिर भी कोई उपाय नहीं है। किसान परेशान हैं। कर्मचारी दफ्तर के बाहर कुर्सियों पर बैठे हैं। किसानों के हंगामे की सूचना मिलते ही विभाग के कर्मचारियों में हड़कंप मच गया. मामले की जानकारी एसई तक पहुंची तो वे मौके पर पहुंचे और लोगों को समझाने का प्रयास किया।

प्रदर्शनकारियों और एसई के बीच तीखी नोकझोंक हुई। इतना ही नहीं नवीन जयहिंद ने अपना पराना एक्सईएन के ऑफिस के बाहर लपेटा और कहा कि हमने यहां भी ताला लगा दिया है। जब तक लोगों की समस्या का समाधान नहीं होगा तब तक ताला नहीं खुलेगा।

धरना प्रदर्शन कर रहे गढ़ी निवासी पूर्व सैनिक प्रदीप ने कहा कि विभाग में किसानों की नहीं सुनी जा रही है. विभाग कार्यालय आने के बाद भी समस्याओं का समाधान नहीं हो रहा है। पिछले चार साल से खेत में पुलिया बनाने का काम अटका हुआ है। यह कई बार अनुरोध किया गया है।

जेन के खिलाफ गंभीर आरोप
तीन महीने पहले ही मेरा यहां ट्रांसफर हुआ है। मैं यहाँ समय पर आ रहा हूँ। मैं भी अपना काम कर रहा हूं। इसके बावजूद अधिकारी लगातार परेशान कर रहे हैं। कर्मचारियों को बिना किसी काम के छुट्टियों पर भी शनिवार और रविवार को कार्यालय बुलाया जाता है। यदि आप नहीं आते हैं, तो आप अनुपस्थिति दर्ज करेंगे। ऑफिस आने पर उन्हें यह कहकर वापस भेज देते हैं कि कोई काम नहीं है। इतना ही नहीं एससी-एसटी एक्ट का भी खतरा है। एसई के खिलाफ एससी-एसटी की भी शिकायतें दी गई हैं। मुझे भी तीन दिन ऑफिस के बाहर बैठना पड़ता है। राजेश मलिक, उपाधीक्षक, सिंचाई विभाग।

पूरा मामला पूर्व नियोजित था। उपाधीक्षक को कार्यमुक्त कर दिया गया है। वह न तो काम करता है और न ही फोन उठाता है। अपने वरिष्ठ के संदेशों का जवाब नहीं देता। मुझे ऐसे कर्मचारी की जरूरत नहीं है। ऑफिस में काम नहीं होने से काफी काम रुका हुआ है। इसलिए 15 सितंबर को एसई व मुख्यालय को भी पत्र लिखा गया है। इस पर अभी तक कहीं से कोई जवाब नहीं आया है। कार्यालय में 1700 कर्मचारियों की सर्विस बुक रखी हुई है। इसलिए कार्यालय में ताला लगा हुआ है। कर्मचारी को पूर्व में नोटिस भी दिया जा चुका है। उसके बाद ही कार्रवाई की गई। एससी-एसटी का मामला सिर्फ एसई के खिलाफ है। इसमें सुनवाई चल रही है. अगर मैं गलत हूं तो आयोग मेरे खिलाफ कार्रवाई करेगा। राम निवास, एक्सईएन, सिंचाई विभाग।

Tags :

Leave a Reply

Your email address will not be published.