हॉकी में आज ऑस्ट्रेलिया से खिताबी मुकाबला:कॉमनवेल्थ गेम्स में अब तक मेंस हॉकी टीम गोल्ड नहीं जीती, इतिहास रचने का मौका

बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स में भारतीय पुरुष हॉकी टीम आज ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ फाइनल मैच खेलेगी। यह मुकाबला शाम 5 बजे शुरू होगा। भारतीय टीम अब इस मुकाबले में 17 खिलाड़ियों के साथ उतरेगी। इन 17 खिलाड़ियों में रोटेशन होगा और एक समय पर 11 खिलाड़ी मैदान पर होंगे। दरअसल इंडियन मिडफील्डर विवेक सागर प्रसाद चोटिल हो गए हैं। उन्हें 4 हफ्ते रेस्ट की सलाह दी गई है।

हॉकी में आज ऑस्ट्रेलिया से खिताबी मुकाबला:कॉमनवेल्थ गेम्स में अब तक मेंस हॉकी टीम गोल्ड नहीं जीती, इतिहास रचने का मौका

टीम इंडिया ने सेमीफाइनल में दक्षिण अफ्रीका को 3-2 से हराया। भारतीय टीम तीसरी बार कॉमनवेल्थ गेम्स के फाइनल में पहुंची है। ऑस्ट्रेलिया ने दूसरे सेमीफाइनल में इंग्लैंड को 3-2 से हराकर फाइनल का टिकट कटाया है।

2010 और 2014 के मेंस हॉकी फाइनल में पहुंचा था भारत

भारतीय पुरुष हॉकी टीम 2010 के दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम्स और 2014 ग्लास्गो कॉमनवेल्थ के फाइनल में पहुंची थी। तब ऑस्ट्रेलिया ने भारत को गोल्ड मेडल के मैच में हराया था। मनप्रीत सिंह की अगुआई में अब तक भारतीय टीम ने शानदार खेल दिखाया है। टीम अब तक इस टूर्नामेंट में अजेय रही है।

पहले मैच में भारत ने घाना को 11-0 से हराया था। वहीं, दूसरे मैच में टीम ने इंग्लैंड के खिलाफ 4-4 से ड्रॉ खेला था। तीसरा मैच भारत ने वेल्स के खिलाफ 4-1 से जीता था। वहीं सेमीफाइनल में भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 3-2 से हराया। टीम इंडिया अपने ग्रुप (पूल-बी) में पहले नंबर पर रही थी।

पहले क्वार्टर का खेल

पहले क्वार्टर में भारत का प्रदर्शन अच्छा रहा। हालांकि, टीम गोल करने के मिले मौकों को भुना नहीं सकी। भारतीय टीम ने पहले क्वार्टर में चार पेनल्टी कॉर्नर हासिल किए। हालांकि, टीम किसी भी मौके पर गोल नहीं कर सकी। वहीं, दक्षिण अफ्रीका ने दो बार भारतीय सर्कल में घुसने की कोशिश की, लेकिन भारतीय डिफेंडर्स ने उन्हें गोल करने से रोका। पहले क्वार्टर में दोनों में से कोई टीम गोल नहीं कर सकी।

दूसरे क्वार्टर का खेल

दूसरे क्वार्टर में भारतीय टीम ने काउंटर अटैक जारी रखा। भारत के अभिषेक ने 20वें मिनट में शानदार गोल दागा और टीम इंडिया को 1-0 की बढ़त दिलाई। इसके बाद मनदीप ने 28वें मिनट में गोल दागा और भारत की बढ़त दो गोलों की कर दी। हाफ-टाइम तक भारत ने दक्षिण अफ्रीका पर 2-0 की बढ़त बना ली थी।

तीसरे क्वार्टर का खेल

तीसरे क्वार्टर में दक्षिण अफ्रीका ने वापसी की। 33वें मिनट में रेयान जूलियस ने गोल दागा और स्कोर 2-1 कर दिया। तीसरे क्वार्टर में भारतीय खिलाड़ियों के आत्मविश्वास में कमी दिखी और उन्होंने कम काउंटर अटैक किए। इसी का फायदा दक्षिण अफ्रीका ने उठाया और गोल दागा।

चौथे क्वार्टर का खेल

दो सीनियर खिलाड़ियों से गाइडेंस मिलने के बाद भारतीय खिलाड़ियों ने चौथे क्वार्टर में शानदार खेल दिखाया और लगातार काउंटर अटैक जारी रखा। चौथे क्वार्टर के आखिरी पांच मिनट में दक्षिण अफ्रीका ने गोलकीपर को हटाकर एक एक्स्ट्रा खिलाड़ी को मैदान पर भेजा। इसका फायदा भारतीय टीम को 58वें मिनट में मिला। भारत ने पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया।

इस पर जुगराज सिंह ने बिना गोलकीपर के साथ डिफेंड कर रही दक्षिण अफ्रीका के गोल पोस्ट में गेंद पहुंचाकर भारत को 3-1 से आगे कर दिया। हालांकि, आखिरी मिनट में दक्षिण अफ्रीका के कासिम मुस्तफा ने गोल दाग स्कोर 3-2 किया। इसके बाद दोनों टीमें कोई गोल नहीं कर सकीं। इस तरह भारतीय टीम ने जीत हासिल की।

ऑस्ट्र्लियाई दबदबे को खत्म करना चाहेगा भारत

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने कॉमनवेल्थ गेम्स में पहला गोल्ड मेडल जीतने के इरादे से मैदान पर उतरेगी। कप्तान मनप्रीत की अगुआई में भारत ने पिछले साल टोक्यो ओलंपिक में 41 साल बाद ब्रॉन्ज जीता था। इस बार टीम मनप्रीत की अगुआई में कॉमनवेल्थ गेम्स में ऑस्ट्रेलियाई दबदबे को खत्म करना चाहेगी। ऑस्ट्रेलिया ने कॉमनवेल्थ गेम्स में अब तक सभी छह गोल्ड मेडल जीते हैं।

गोल्ड कोस्ट 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स में पदक जीतने से असफल रही भारतीय टीम पिछली नाकामी को भुलाना चाहेगी। पिछले कुछ वर्षों में ऑस्ट्रेलियाई निवासी मुख्य कोच ग्राहम रीड के मार्गदर्शन में भारतीय टीम ने अपने आप में काफी सुधार किया है। हॉकी के तमाम फैंस को टीम से गोल्ड मेडल की आस है।

Tags :

Leave a Reply

Your email address will not be published.